Loading Posts...

जिहादी मीडिया की जिहादी जोड़ी, रूचि कुमार – कमाल खान, दोनों का शिकार हुए विकास मिश्रा

जिहादी मीडिया की जोड़ी
जिहादी मीडिया की जोड़ी
Share on Facebook
Facebook
Tweet about this on Twitter
Twitter
Pin on Pinterest
Pinterest

कृपया शेयर जरुर करें
जिहादी मीडिया की जोड़ी

जिहादी मीडिया की जोड़ी

भारतीय मीडिया को आप सेक्युलर अब नहीं कह सकते, ये मीडिया किसी भी तरह से सेक्युलर नहीं है, ये जिहादी मीडिया है और आज हम आपको जिहादी मीडिया की एक जोड़ी के बारे में बता रहे है रूचि कुमार – कमाल खान

रूचि कुमार – कमाल खान : रूचि कुमार उर्फ़ रूचि खान, ये मोहतरमा इंडिया टीवी नामक चैनल में लम्बे समय से काम कर रही है, आपने इन्हें इंडिया टीवी पर देखा होगा

कमाल खान – ये शख्स NDTV में कई सालों से काम कर रहा है, जो लोग NDTV देखते है उन्होंने इस शख्स को उस देशद्रोही चैनल पर देखा होगा, रूचि कुमार – कमाल खान ये दोनों ही लखनऊ से पत्रकारिता करते है

पर कम ही लोग जानते है की ये दोनों शौहर और बेगम भी है, रूचि कुमार, अपने नाम में खान नहीं लगाती, वो कमाल खान की बेगम है, कमाल खान इनका शौहर है

पिछले दिनों लखनऊ में पासपोर्ट काण्ड हुआ, जिसमे सादिया अनस नामक महिला ने निर्दोष और इमानदार हिन्दू कर्मचारी विकास मिश्र पर आरोप लगाया, और देखते ही देखते इस मामले को जिहादी मीडिया ने आग की तरह फैला दिया

हिन्दू कर्मचारी विकास मिश्र को विलन बनाया गया, उन्हें कई दिनों तक जिहादी मीडिया ने प्रताड़ित क्या, जिहादी मीडिया ने सेक्युलर सिस्टम को पैरों में लोटा दिया और सेक्युलर सिस्टम ने सादिया अनस का पासपोर्ट बना दिया और निर्दोष विकास मिश्र को सजा दे दी गयी

आपकी जानकारी के लिए बता दें की सादिया अनस के ड्रामे को फैलाने में सबसे बड़ा हाथ NDTV के कमाल खान और इंडिया टीवी के रूचि कुमार का रहा, इन दोनों ने ही फेक न्यूज़ को फैलाया और मामले को हिन्दू मुस्लिम से जोड़कर निर्दोष हिन्दू विकास मिश्र को बदनाम किया

सादिया अनस और उसके शौहर अनस सिदिकी के साथ मिलकर कमाल खान और रूचि कुमार ने ही मुस्लिम कार्ड खेलने की साजिश रची और उसके बाद विकास मिश्र को किस तरह प्रताड़ित किया गया आप सब जानते है

इन लोगों ने फेक खबरें चलाई, की विकास मिश्र सांप्रदायिक है उन्होंने एक महिला तनवी सेठ को प्रताड़ित किया, तनवी सेठ विक्टिम है, और पूरा झूठा स्क्रिप्ट सभी ने मिलकर चलाया

अब विकास मिश्र निर्दोष निकले है, पर भांड जिहादी मीडिया इतनी बेशर्म है की फर्जी खबर चलाने के लिए माफ़ी भी नहीं मांग रही, हिन्दुओ के खिलाफ ये मीडिया किस प्रकार नफरत और द्वेष फैलाती है लखनऊ का पासपोर्ट काण्ड इसका एक छोटा सा उदाहरण है

चाहे कश्मीर की जिहादी अभिनेत्री जयरा वासिम का मामला हो या सादिया अनस का, इन सभी मामलों में निर्दोष हिन्दुओ को फंसाया गया, जिहादी मीडिया ने हिन्दुओ का जीना मुश्किल कर दिया इन तमाम मामलों में, भारत में असल विक्टम तो हिन्दू है, जो की इन जिहादियों और जिहादी मीडिया के निशाने पर है

0
HeartHeart
0
HahaHaha
0
LoveLove
0
WowWow
0
YayYay
0
SadSad
0
PoopPoop
0
AngryAngry
Voted Thanks!

srks2110

The author didnt add any Information to his profile yet

Leave a Comment

Loading Posts...
error: Content is protected !!