Press "Enter" to skip to content

12 बार सांसद 3 बार PM कुल संपत्ति 29 लाख, 1 बार CM और 1000 करोड़ का होटल, अकूत धन

अटल जी तो हमे छोड़कर चले गए है, पर अपने पीछे वो क्या छोड़कर गए है इसके बारे में आप शायद ही जानते होंगे – वैसे कौन थे अटल जी ? अटल जी इस देश के 3 बार प्रधानमंत्री बने, इस देश की संसद में वो 12 बार सांसद के रूप में गए, 12 बार के सांसद और 3 बार देश के प्रधानमंत्री, भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी

अटल जी अपने पीछे कुल मिलकार 29 लाख रुपए की टोटल संपत्ति छोड़कर गए है, उनकी एक गोदलेवा बेटी हैं, शायद उन्हें ही अटल जी की ये संपत्ति मिलेगी, खैर वो किसी को भी मिले, पर अटल जी अपने पीछे 29 लाख रुपए की संपत्ति छोड़कर गए है, और ये वो पैसा है जो उन्हें इतने सालों में पेंशन इत्यादि के रूप में मिला, हर सांसद को पेंशन मिलता है, ये वही पैसा है

अटल जी सरकारी घर में रहते थे, जो उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री के तौर पर मिला था, उनके पास अपना कोई घर नहीं, न ही उनके पर 1 काठा जमीन, 29 लाख के अलावा कोई संपत्ति नहीं और न ही अटल जी के पास कोई गाड़ी, ये थे 12 बार देश के सांसद और 3 बार प्रधानमंत्री रहे अटल जी

loading...

वहीँ अखिलेश यादव जो 1 बार मुख्यमंत्री रहे, अभी हाल ही में इलाहबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने उनके बन रहे 5 सितारा होटल जिसकी लागत 1000 करोड़ के आसपास है उसपर रोक लगायी है

अटल जी तो 12 बार सांसद और 3 बार PM रहकर भी करोडपति न हो सके, जबकि PM की सैलरी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से ज्यादा होती है, पर अखिलेश यादव मात्र 1 बार मुख्यमंत्री रहकर अकूत धन के मालिक हो गए

loading...

बता दें की उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री की मासिक तनख्वाह 1 लाख रुपए है, और 5 साल मुख्यमंत्री थे अखिलेश, यानि 60 महीने तो टोटल कमाई इनकी 60 लाख के आसपास ही होनी चाहिए, जिसमे से मान लो 1 पैसा भी इन्होने आजतक खर्च न किया हो और सव सेविंग अकाउंट में जमा करवाए हो तो भी अखिलेश के पास 1 करोड़ से ज्यादा हो ही नहीं सकता, पर ये न जाने कौन सा समाजवाद है की वो 5 सितारा होटल खोल रहे थे जिसपर हाई कोर्ट ने रोक लगाई है

इसके अलावा जब अखिलेश को सरकारी बंगले से निकाला गया तो कुछ ही दिनों में इन्होने लखनऊ में एक आलीशान बंगला भी ले लिया, अटल जी के पास तो अपना घर भी नहीं था, और कहने को अटल जी स्वर्ण थे और अखिलेश यादव गरीब पिछड़े है

More from अन्य खबरMore posts in अन्य खबर »

4 Comments

  1. If the Maharashtra government has its way, the onus for implementing the Centre’s “historic” decision to fix minimum support prices (MSP) for crops at 1.5 times their average production costs will not lie with state procurement

  2. Like!! Thank you for publishing this awesome article.

Leave a Reply

Your email address will not be published.