Press "Enter" to skip to content

संयुक्त राष्ट्र के महासचिव भारत आकर अपने हाथ से मोदी को “चैंपियन ऑफ़ अर्थ” अवार्ड देते हुए

ऊपर की तस्वीर आप देख रहे है, 2 लोग है एक हमारे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दुसरे संयुक्त राष्ट्र के महासचिव, एक तरह से संयुक्त राष्ट्र के अध्यक्ष, संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख António Guterres

संयुक्त राष्ट्र के प्रमुख खुद भारत आये थे ताकि वो नरेंद्र मोदी को चैंपियन ऑफ़ अर्थ का अवार्ड दे सके, नरेंद्र मोदी को ये अवार्ड पर्यावरण के लिए बेहतरीन काम करने पर मिला है, दुनिया के सैंकड़ो देश है, और भारत से बड़े देश भी है, पर अवार्ड हमारे PM को मिला है, हमारे PM के अलावा ये अवार्ड फ़्रांस के राष्ट्रपति को भी मिला है

नरेंद्र मोदी को ये अवार्ड मिलना कोई छोटी चीज नहीं है, ये अवार्ड नरेंद्र मोदी को नहीं बल्कि भारत के प्रधानमंत्री को मिला है यानि भारत के हर नागरिक को मिला है, मोदी दुनिया में हमारा प्रतिनिधित्व करते है, वो हमारे प्रतिनिधि है, मोदी का सम्मान मतलब भारतीयों का सम्मान

देशद्रोहियों को छोड़कर चाहे वो मोदी समर्थक हो या मोदी विरोधी सभी को मोदी के कारण गर्व प्राप्त हुआ है, सबका सम्मान बढ़ा है, नरेंद्र मोदी के बेहतरीन कार्य के चलते सबका सम्मान किया गया है

नरेंद्र मोदी वो नेता है जिनको विपक्ष के लोगों ने कौन कौन सी गाली नहीं दी है, मोदी की माँ को भी गालियाँ दी गयी है, मोदी गुजरात के मुख्यमंत्री थे, और गुजरात में उन्होंने तेजी से विकास किया, उन्हें पूरा देश तब भी जानता था जब वो गुजरात के CM थे

2014 चुनाव से पहले बीजेपी ने नरेंद्र मोदी को गुजरात नहीं बल्कि देश के बीजेपी समर्थको की डिमांड पर प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बनाया था

तब मोदी को छोटा बताने के लिए कांग्रेस पार्टी ने एक बयान देकर कहा था की  – मोदी तो एक राज्य का छेत्रीय नेता है, मोदी को आखिर गुजरात से बाहर जानता ही कौन है

आज कांग्रेस ऊपर की इस तस्वीर को देख सकती है, कांग्रेस के खानदानी प्रधानमंत्री कई सारे हुए पर उन्हें कभी कोई अवार्ड नहीं मिला, कांग्रेस के लोग तो ऐसे थे की खुद को जीवित रहते ही भारत रत्न देकर खुद का सम्मान खुद ही कर लिया करते थे, मोदी ने हर भारतीय का सर ऊँचा किया है

More from अच्छी खबरMore posts in अच्छी खबर »

3 Comments

  1. Like!! Thank you for publishing this awesome article.

Leave a Reply

Your email address will not be published.