Press "Enter" to skip to content

दिन भर जानवर काटे और शाम को उनकी खाल, हड्डियाँ नदी में फेंकी, तमाम पर्यावरण प्रेमी मौन

बकरीद एक ऐसा दिन जब देश के तमाम सेक्युलर बुद्धिजीवी सेलेब्रिटी अपने ज्ञान की दूकान बंद कर लेते है, तमाम NGO जैसे की PETA वो अपना दफ्तर बंद कर लेते है

हिन्दू त्योहारों पर पर्यावरण की सीख देने वाले लोग, NGT जैसे कोर्ट ये सब बकरीद पर ऐसे गायब हो जाते है जैसे अस्तित्व में ही न हो, आज करोडो जानवरों की हत्या मजहब के नाम पर की गयी

और जानवरों को मारने के बाद शाम को क्या किया गया ये आप इस विडियो में देखें

loading...


ट्रक से भरकर जानवरों की खालें हड्डियाँ और अन्य अंग लाये और सीधे नदी के अन्दर, अब इस नदी में कितना प्रदुषण इन लोगों ने फैलाया इसका अंदाजा आप स्वयं लगाइए

loading...

और ये तो सिर्फ 1 विडियो है, और 1 शहर के 1 हिस्से का हाल है, देश भर के नहरों नदियों का ये ही हाल किया गया, होली दीपावली जैसे त्योहारों पर जो लोग पर्यावरण की बात करते है ऐसे तमाम पर्यावरण प्रेमी गायब है, कोई कोहराम नहीं, यहाँ तक की चू भी नहीं !

More from अन्य खबरMore posts in अन्य खबर »

2 Comments

  1. Like!! Great article post.Really thank you! Really Cool.

Leave a Reply

Your email address will not be published.